Projects

बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए शैक्षिक योजना

इण्डियन हेल्पलाइन सोसाइटी बेरोजगारी से प्रभावित, असहाय, गरीब बच्चों को वित्तीय, सामाजिक और शैक्षिक सहायता प्रदान करने में अग्रसर है। हम आपसे इस उद्देश्य के लिए इण्डियन हेल्पलाइन के माध्यम से दान करने का आग्रह करते हैं।

निर्धन कन्या विवाह समारोह योजना

कन्यादान समाज के लिए एक धर्मप्राण कार्य होता है, जो एक परिवार से दूसरे परिवार के मिलन में सुख लाता है। कन्यादान एक परिवार का सम्मान है, जो अपनी पुत्री को दूसरे परिवार को अर्पण करके उसका भविष्य सुरक्षित करता है। कन्यादान से पिता अपनी पुत्री को विवाहित स्थान में स्थापित करते हैं और उसे शक्तिशाली बनाते हैं। इस नेक कार्य में संस्था सहायता प्रदान करने में अग्रसर है। हम आपसे इस उद्देश्य के लिए इण्डियन हेल्पलाइन के माध्यम से दान करने का आग्रह करते हैं।

गौ रक्षा के संकल्पित योजना

इण्डियन हेल्पलाइन सोसाइटी गौ सेवा में, दृढ़ता से मानती हैं कि गाय कल्याण एक सामूहिक जिम्मेदारी है, और हम इस नेक काम में शामिल होने के लिए सभी का स्वागत करते हैं। आपका समर्थन, चाहे दान के माध्यम से या स्वयंसेवा के माध्यम से, हमें इन सौम्य और सुंदर प्राणियों के जीवन में महत्वपूर्ण बदलाव लाने में मदद कर सकता है। हम आपसे इस उद्देश्य के लिए इण्डियन हेल्पलाइन के माध्यम से सहयोग करने का आग्रह करते हैं।

निर्धन, निराश्रित लोगों को अन्नदान योजना

भूखे को भोजन कराना सबसे बड़ा पुण्य माना जाता है क्योंकि इससे भूखे व्यक्ति की आत्मा तृप्ति होती है. भूखे व्यक्ति के हृदय से आपके भले के लिए दुआएं अपने आप निकलने लगती है। गरीबों, बेघरों और निराश्रितों के लिए खाद्य पैकेट और किराना किट प्रायोजित कर इनके अन्नदाता बनकर संस्था की अग्रसरिता में अपना योगदान प्रदान करें। इस उद्देश्य के लिए हम इण्डियन हेल्पलाइन के माध्यम से दान करने का आग्रह करते हैं।

विकलांगता आजीविका निर्माण, गौरव व सम्मान योजना

विकलांगता को आपकी प्रेरक बातें साहस,सम्मान व अपनापन दिलाती हैं, हर साल 3 दिसंबर को पूरे विश्व में विश्व विकलांग दिवस मनाया जाता है। यह दिन खास तौर पर विकलांग लोगों में उत्साह जगाने और उनके सम्मान व जीवन को बेहतर बनाने के लिए में मनाया जाता है। यहां हम इण्डियन हेल्पलाइन के माध्यम से इनके लिए सहयोग की अपेक्षा करते है आपका छोटा सा प्रयास इनको प्रेरणा दे सकता हैं। मैं नहीं विकलांग हूँ, मुझमें विकलांगता है। मन बहुत सक्त होता है, जब समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अगर आप निराश होते हुए भी हिम्मत नहीं हारते हैं, तो आप विजयी ही होते हैं। विकलांगों की आवाज को समझने वाले को हर जगह जन्म लेना चाहिए। आइये हम मिलकर इनके सपनों को नई उड़ान दें।

पर्यावरण, हरियाली संरक्षण योजना

जलवायु परिवर्तन इस समय पूरी दुनिया के लिये परेशानी का कारण बना हुआ है। हांलाकि, दुनियाभर में उत्पन्न हुई इस समस्या की वजह भी हम हैं और इसका हल भी हम ही हैं. मानव गतिविधियों के कारण आज हम अधिक गर्मी और बारिश से जूझ रहे हैं, अगर ऐसा ही रहा, तो आगे चल कर हालात और भी बद्दतर हो सकते हैं। इस भयानक स्थिति से बचने के लिये हमें धरती को हरा-भरा बनाने की ज़रूरत है, ताकि सभी शुद्ध और खुली हवा में सांस ले सकें। हांलाकि, भारतवर्ष में 5 संगठन जो चारों ओर हरियाली फैला कर ग्लोबल वार्मिंग से लड़ने में मदद कर रहे हैं। ये लोग तो अपने काम में लगे हुए हैं, पर हम और आप कब जागेंगे? आइये हम भी सम्पूर्ण धरती को हरियाली के सौंदर्य से सुसज्जित करने के लिए बृक्षारोपण का संकल्प लें। हम इण्डियन हेल्पलाइन के माध्यम से आपके मार्गदर्शन की अपेक्षा करते है।

भारत के जल संरक्षण समृद्धि योजना

कहा जा सकता है कि ‘जल संरक्षण’ आज समूची दुनिया के लिए अहम चिंता का विषय है। प्रकृति हमें निरंतर वायु, जल, प्रकाश आदि शाश्वत गति से दे रही है लेकिन हम प्रकृति के इस नैसर्गिक संतुलन को बिगाड़ने से बाज नहीं आ रहे हैं। पानी को बचाने की दिशा में हमें पहले से चेत जाने की जरूरत है, क्योंकि हर साल मानसूनी वर्षा का 78% से अधिक पानी समुद्र में बह जाता है, जिससे मिट्टी की गुणवत्ता कम हो जाती है। उचित सिंचाई या जल प्रबंधन तकनीकों के बिना कृषि के लिए केवल मानसूनी बारिश पर निर्भर रहना। ग्रामीण क्षेत्रों में भूजल की आक्रामक पंपिंग के परिणाम स्वरूप 63% भारतीय जिलों को पिछले 20 वर्षों से लगातार जल स्तर में गिरावट का सामना करना पड़ रहा है। 1.3 बिलियन से अधिक की वर्तमान जनसंख्या और 2050 तक 1.7 बिलियन हो जाने की उम्मीद वाले भारत को कृषि, पीने और घरेलू उपयोग के लिए विशाल बहुमत को सुरक्षित और स्वच्छ पानी प्रदान करने की चुनौती से निपटने के लिए एक समाधान खोजना होगा। इण्डियन हेल्पलाइन आप सभी से अपील करता है आइये हमसब भी जल संरक्षण मिशन का हिस्सा बनें

भारतीय किसानों के उत्थान योजना

भारत एक कृषि प्रधान विकासशील राष्ट्र है, यहाँ की अधिकांश आबादी ग्रामीण क्षेत्र से है, और उनका जीवन रोजगार और आजीविका के साधन के लिए कृषि क्षेत्र के इर्द-गिर्द घूमता है। भारत में खेती-किसानी हमेशा से ही आवश्यक आर्थिक गतिविधियों में से एक रही है। लगभग दो-तिहाई आबादी कृषि और कृषि-संबंधित गतिविधियों में लगी हुई है, किसानों की दुर्दशा को समझना महत्वपूर्ण है और वे संघर्ष क्यों कर रहे हैं। कुछ दशकों से, कामकाजी माहौल और कृषि परिदृश्य स्थिर हैं, और यह अब पहले की तरह लाभ कमाने वाला क्षेत्र नहीं रहा है। किसी भी तरह से कृषि से संबंधित वास्तविक मुद्दों की खोज करना और उनमें सुधार लाना हमारी मांग का अहम हिस्सा है INDIAN HELPLINE, आपके मार्गदर्शन के साथ भारत के किसानों के लिए नई आशा किरण के रूप में कार्य करने की इच्छा शक्ति के साथ प्रयासरत है। हमारी योजना किसान आत्महत्याओं को कम करना और भारतीय किसानों के लिए उच्च गुणवत्ता वाला जीवन और जीवन स्तर विकसित करना है। सिंचाई तकनीकों, शैक्षिक संसाधनों और किसान स्वास्थ्य सहित विभिन्न परियोजनाओं के माध्यम से, INDIAN HELPLINE ग्रामीण कृषि क्षेत्रों को सशक्त बनाने के प्रयास में आपके साथ और सहयोग की अपेक्षा रखता है। आइये हम सब एक साथ इस कार्यक्रम को सार्थक बनायें

आवारा जानबरों को संरक्षित करने कि योजना

जानवरों की सेवा करने का युवाओं में आजकल काफी जोश देखा जा सकता है। आवारा जानवरों के प्रति हमारा कर्तव्य उन्हें संरक्षित करना और उन्हें किसी भी तरह की हिंसा या जख्मी होने से बचाना होता है। आवारा जानवर अक्सर अपने घर खो देते हैं या फिर उन्हें किसी कारणवश घर से निकाल दिया जाता है। इस स्थिति में, हमारी जिम्मेदारी होती है कि हम उन्हें संरक्षित रखें और उन्हें फिर से उनके घर लौटा दें। अगर हम आवारा जानवरों के प्रति संवेदनशील नहीं होते हैं तो वे भूखे, थके और बीमार हो सकते हैं जो उनकी मृत्यु से भी खतरनाक हो सकता है। आवारा जानवरों को खाना खिलाना अपने आप में एक अच्छा काम है। जब आप उन दयालु आत्माओं का पेट भरते हैं तो आप उनकी आँखों में कृतज्ञता देख सकते हैं। अधिकांश आवारा जानवर भोजन के लिए आस-पास के मनुष्यों पर निर्भर होते हैं, और जबकि कई व्यक्ति व्यक्तिगत या संगठनात्मक आधार पर आवारा जानवरों की देखभाल के लिए अपना समय देते हैं। हम INDIAN HELPLINE के माध्यम से आपसे इस मिशन का हिस्सा बनने का अनुरोध करते है।

हमारे स्वयं सेवक बनें

बेहतर जीवन और सुंदर भविष्य के लिए हमसे जुड़ें

इण्डियन हेल्पलाइन सोसाइटी एक गैर-लाभकारी संगठन है जो सामाजिक कल्याण के लिए काम करता है। यह एक महानगरीय शहर के मध्य में स्थित है। इण्डियन हेल्पलाइन सोसाइटी समय-समय पर सामाजिक कार्यक्रमों का आयोजन करती है और छोटे-छोटे कैप्स के माध्यम से समाज में जागरूकता फैलाती है। इसके साथ ही, यह गरीब बच्चों को शिक्षा, बेरोजगारों को सुक्ष्म रोजगार, निराश्रित लोगों को आश्रय, और वृद्ध महिला और पुरुषों की देखभाल को भी प्राथमिकता देती है।संस्था विभिन्न सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक, शैक्षिक कार्यक्रमों की सहायता से समाज के आध्यात्मिक एवं नैतिक ताने-बाने के निर्माण के लिए कृतसंकल्पित रूप से प्रयासरत है।